Health Education

शादी में इसलिए वर-वधू लेते हैं सात फेरे, जानिए हर वचन का खास मतलब

क्यों लिए जाते हैं सात फेरे?

होने वाले वर-वधू के साथ कई अन्य लोग ऐसे हैं, जिनके मन में ये सवाल आता है कि आखिर सात फेरे ही क्यों लिए जाते हैं। अगर आपके मन में भी सवाल आता है तो हम आपको इसका जवाब देंगे। मान्यताओं के अनुसार, मानव जीवन के लिए 7 की संख्या बहुत विशिष्ट मानी गई है। अगर आप भारतीय संस्कृति पर ध्यान देंगे तो आपको मालूम चलेगा कि भारतीय संस्कृति में संगीत के 7 सुर, इंद्रधनुष के 7 रंग, 7 ग्रह, 7 तल, 7 समुद्र, 7 ऋषि, सप्त लोक, 7 चक्र, सूर्य के 7 घोड़े, सप्त रश्मि, सप्त धातु, सप्त पुरी, 7 तारे, सप्त द्वीप, 7 दिन, मंदिर या मूर्ति की 7 परिक्रमा, आदि का उल्लेख किया गया है। यही वजह है कि हिंदू विवाह में फेरों की संख्या भी 7 है।

आइए जानते हैं इन सात वचनों का महत्व…

#1. पहला वचन

फोटो क्रेडिट- Dino Jeram Photography

पहले वचन में कन्या वर से यह मांग करती है कि अगर वर कभी तीर्थयात्रा करने जाए तो उसे भी अपने साथ लेकर जाए। अगर वर कोई व्रत-उपवास या अन्य धार्मिक कार्य करे तो आज की भांति ही उसे बायीं ओर बिठाए। फिर कन्या वर से पूछती है कि अगर उसे यह स्वीकार है तो वो उनके वामांग में आना स्वीकार करती है।

#2. दूसरा वचन

फोटो क्रेडिट- DKREATE Photography

दूसरे वचन में वधू वर से वचन लेती है कि जिस तरह वर अपने माता-पिता का सम्मान करते हैं, वैसे ही वो उनके भी माता-पिता का सम्मान करेंगे और परिवार की मर्यादा के अनुसार धर्मानुष्ठान करते हुए ईश्वर के भक्त बने रहेंगे। अगर आपको ये स्वीकार है तो मैं आपके वामांग में आना स्वीकार करती हूं।#3. तीसरा वचन

फोटो क्रेडिट- Cupcake Productions

कन्या तीसरे वचन में कहती है कि वर उसे वचन दे कि जीवन की तीनों अवस्थाओं (युवावस्था, प्रौढ़ावस्था, वृद्धावस्था) में वर उसका पालन करता रहे। अगर वह इसे स्वीकार करता है तो कन्या उसके वामांग में आना स्वीकार करती है।

#4. चौथा वचन

ADVERTISEMENThttps://97078d59fef324a0f400976b0e99d2ee.safeframe.googlesyndication.com/safeframe/1-0-37/html/container.html

फोटो क्रेडिट- Dino Jeram Photography

वधू चौथे वचन में ये कहती है कि अब आप विवाह के बंधन में बंधने जा रहे हैं तो ऐसे में परिवार की सभी आवश्यकताओं की पूर्ति का पूरा दायित्व आपके कंधों पर होगा। अगर आप इस भार को संभालने में सक्षम हैं और इसे वहन करने की प्रतिज्ञा आप लेते हैं तो मैं आपके वामांग में आना स्वीकार करती हूं।  

#5. पांचवा वचन

फोटो क्रेडिट- Dino Jeram Photography

अपने होने वाले वर से कन्या परिवार को सुखी बनाए रखने के लिए पांचवा वचन लेती है, जिसमें वो कहती है कि अपने घर के कार्यों में, विवाह आदि, लेन-देन और किसी अन्य चीज पर खर्चा करते समय अगर आप मेरी भी राय लिया करेंगे तो मैं आपके वामांग में आना स्वीकार करती हूं।  

ये भी पढ़ें: 20 से 52 लाख तक के महंगे मंगलसूत्र पहनती हैं ये 10 बॉलीवुड अभिनेत्रियां, देखिए उनकी झलक

#6. छठा वचन

फोटो क्रेडिट- Dino Jeram Photography

कन्या छठवें वचन में कहती है कि अगर मैं किसी समय अपनी सहेलियों या अन्य महिलाओं के साथ बैठी रहूं तो आप किसी के सामने किसी भी वजह को लेकर मेरा अपमान नहीं करेंगे। इसके अलावा आप अपने आपको जुआ या किसी अन्य प्रकार की बुराइयों से दूर रखेंगे। अगर आप यह मानते हैं तो ही मैं आपके वामांग में आना स्वीकार करती हूं।

#7. सातवां वचन

फोटो क्रेडिट- Dino Jeram Photography

कन्या आखिरी और सातवें वचन के रूप में वर से यह मांग करती है कि वह पराई महिलाओं को अपनी मां सामान समझेंगे और पति-पत्नि के आपसी प्रेम के बीच किसी को भागीदार नहीं बनाएंगे। अगर आप मुझे यह वचन देते हैं तो मैं आपके वामांग में आना स्वीकार करती हूं।

हर धर्म में वर-वधुओं को लेकर अलग-अलग मान्यताएं होती हैं। मगर इन सबके पीछे का महत्व एक ही होता है और वो है कि दोनों ही एक-दूसरे के प्रति समर्पित रहें और एक-दूसरे का सम्मान करें। इन सभी वचनों का अर्थ है कि दंपति एक-दूसरे से प्यार तो करे ही, साथ में एक-दूसरे का सम्मान भी करें। इसके अलावा हर अच्छे और बुरे समय में एक-दूसरे को सहारा दें।

About the author

admin

Add Comment

Click here to post a comment

FOLLOW US

FREE ADD YOUR BUSINESS

Advertisement

FOLLOW US

CopyAMP code